Affiliate Marketing in Hindi

Affiliate Marketing क्या है और कैसे पैसे कमाए

आज की चर्चा का विषय Affiliate Marketing in Hindi है, कैसे काम करता है और इससे पैसे कैसे कमाए इसको लेकर आपके मन में कई तरह के संदेह होंगे। आज के टॉपिक में हम इसी पर बात करेंगे। आज का युग कंप्यूटर, इंटरनेट और ऑनलाइन शॉपिंग/मार्केटिंग का युग है। ऑनलाइन शॉपिंग का चलन चल रहा है और यह धीरे-धीरे प्रसिद्ध हो रहा है, इसलिए बहुत से लोग ऑनलाइन व्यापार करने और ई-कॉमर्स साइट और व्यक्तिगत ब्लॉग बनाकर पैसा कमाने में रुचि दिखा रहे हैं। जो लोग लंबे समय से ऑनलाइन बिजनेस कर रहे हैं, उन्हें एफिलिएट मार्केटिंग के बारे में जरूर पता होगा या इसके बारे में सुना होगा। कई ब्लॉगर अपने ब्लॉग में इसका इस्तेमाल करते हैं और कुछ ब्लॉगर ऐसे भी हैं जो अपने ब्लॉग में इसका इस्तेमाल नहीं करते हैं, इसके कई कारण हो सकते हैं जैसे या तो उन्हें एफिलिएट मार्केटिंग के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है या उन्हें यह पसंद नहीं है। आपको यह सोचकर झिझक होना चाहिए कि क्या इसे अपने ब्लॉग में इस्तेमाल करना सही होगा या नहीं।

Affiliate Marketing Kya h in Hindi

Affiliate Marketing Kya h in Hindi

Affiliate Marketing एक ऐसा तरीका है जिसके माध्यम से एक ब्लॉगर किसी कंपनी के उत्पाद को अपनी वेबसाइट के माध्यम से बेचकर कमीशन कमाता है। प्राप्त होने वाला कमीशन उत्पाद के प्रकार पर निर्भर करता है, जैसे फैशन और जीवन शैली श्रेणियों पर अधिक और इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादों पर कम कमीशन।

अपनी वेबसाइट के माध्यम से किसी भी प्रकार के उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए, आपकी वेबसाइट या ब्लॉग पर अधिक से अधिक ट्रैफिक होना बहुत जरूरी है, प्रति दिन कम से कम 5000 विज़िटर। अगर आपकी वेबसाइट नई है और उस पर विजिटर कम आ रहे हैं तो आपको अपनी वेबसाइट पर उत्पादों का विज्ञापन करने से ज्यादा मुनाफा नहीं होगा। इसलिए बेहतर होगा कि आप Affiliate Products को अपने Blog में तभी डालें जब आपके Blog पर ज्यादा visitors आने लगेंगे।

Affiliate Marketing कैसे काम करता है?

meaning of affiliate marketing in hindi

इस सवाल का जवाब उन लोगों के लिए जानना बहुत जरूरी है जो ऑनलाइन फील्ड से जुड़े हैं। अगर वे भी अपना एफिलिएट शुरू करना चाहते हैं तो उनके लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि एफिलिएट मार्केटिंग कैसे काम करती है। यदि कोई उत्पाद आधारित कंपनी या संगठन अपने उत्पादों की बिक्री बढ़ाना चाहता है, तो इसके लिए उन्हें अपने उत्पादों का प्रचार करना होगा। खासकर इसलिए कि उन्हें अपना एफिलिएट प्रोग्राम शुरू करना पड़ता है।

Affiliate Marketing का Business Commission Based है। जब कोई अन्य व्यक्ति जो एक ब्लॉगर या वेबसाइट का मालिक उस कार्यक्रम में शामिल होता है, तो इस कार्यक्रम को शुरू करने वाली कंपनी या संगठन उसे अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर अपने उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए एक बैनर या लिंक आदि प्रदान करता है। इसके बाद उस ब्लॉगर को उस लिंक या बैनर को अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर अलग-अलग तरीकों से लगाना होता है। चूँकि उस ब्लॉगर या वेबसाइट के मालिक की साइट पर रोजाना बहुत सारे विज़िटर आते हैं, इसलिए संभव है कि उनमें से कुछ विज़िटर दिखाए गए ऑफ़र पर क्लिक करते हैं, फिर वह उत्पाद आधारित कंपनियों की वेबसाइटों तक पहुँचता है और कुछ खरीदता है या किसी सेवा के लिए। अगर वह उसके लिए साइन अप करता है तो बदले में वह कंपनी या संस्था उस ब्लॉगर को बदले में कमीशन देती है।

Affiliate Marketing से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण परिभाषाएं

इस मार्केटिंग में कुछ ऐसे शब्दों का प्रयोग किया जाता है जिनके बारे में जानना हम सभी के लिए बहुत जरूरी है। तो आइए ऐसी ही कुछ परिभाषाओं के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं।

1. Affiliates: Affiliates वे लोग होते हैं जो Affiliate Program से जुड़कर अपने उत्पादों का प्रचार अपने स्रोतों जैसे Blog या Website पर करते हैं। यह कोई भी व्यक्ति हो सकता है।

2. Affiliate Marketplace: कुछ ऐसी कंपनियां हैं जो अलग-अलग कैटेगरी में Affiliate Program ऑफर करती हैं, उन्हें Affiliate Marketplace कहा जाता है।

3. संबद्ध आईडी: यह एक विशिष्ट आईडी है जो साइन अप करने पर प्राप्त होती है। प्रत्येक Affiliate को Affiliate Programs के माध्यम से एक Unique ID दिया जाता है, जो बिक्री में जानकारी एकत्र करने में मदद करता है। इस आईडी की मदद से आप अपने Affiliate Account में Login कर सकते हैं।

4. Affiliate link: इसे वह लिंक कहा जाता है जो Affiliates को Product को बढ़ावा देने के लिए प्रदान किया जाता है। इन लिंक्स पर क्लिक करके, आगंतुक उत्पाद वेबसाइट पर पहुँचते हैं, जहाँ वे उत्पाद खरीद सकते हैं। इन लिंक के माध्यम से केवल Affiliate Program चलाने वाले ही बिक्री को ट्रैक करते हैं।

5. Commission: एक सफल सेल के बाद ब्लॉगर या बेचने वाले (एफिलिएट) जितनी राशि को कमीशन कहते हैं। यह राशि Affiliate को प्रत्येक बिक्री के अनुसार प्रदान की जाती है। यह बिक्री का कुछ प्रतिशत या पहले से तय की गई कोई भी राशि हो सकती है जैसा कि नियम और शर्त में पहले ही उल्लेख किया गया है।

 

6. लिंक क्लॉकिंग: एफिलिएट लिंक्स अक्सर लंबे और दिखने में थोड़े अजीब होते हैं, इसके लिए यूआरएल शॉर्टर्स का इस्तेमाल करके ऐसे लिंक्स को छोटा किया जाता है, जिसे लिंक क्लॉकिंग कहते हैं।

7. Affiliate Manager: कुछ Affiliate Programs में Affiliates की मदद के लिए कुछ लोगों को नियुक्त किया जाता है और उन्हें सही Tips देने के लिए Affiliate Manager कहलाते हैं।

8. Payment Mode: Payment प्राप्त करने की विधि Payment Mode कहलाती है। इसका मतलब है कि जिस माध्यम से आपको आपका कमीशन दिया जाएगा। विभिन्न सहयोगी अलग-अलग मोड प्रदान करते हैं। जैसे चेक, वायर ट्रांसफर, पेपाल आदि।

9. Payment थ्रेसहोल्ड: Affiliate Marketing में, Affiliates को कुछ न्यूनतम बिक्री करने पर कुछ कमीशन प्रदान किया जाता है। इस सेल को करने के बाद ही आप पेमेंट कर पाएंगे। इसे भुगतान सीमा कहा जाता है। विभिन्न कार्यक्रमों की भुगतान सीमा की राशि अलग-अलग होती है।

Affiliate Marketing कैसे करें

अब सबसे बड़ा सवाल आता है कि Affiliate Marketing कैसे करें। क्योंकि इसके लिए आपको प्रोडक्ट को प्रमोट करना होता है। ताकि यह ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंच सके और आप उस प्रोडक्ट को बेच सकें। तो अब हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताने जा रहे हैं जिससे आप Affiliate Marketing कर सकते हैं।

blogging

affiliate marketing meaning in hindi

Affiliate Marketing करने का यह सबसे अच्छा Option है बहुत से Blogger Affiliate Marketing करके पैसे कमाते हैं। आप अपना खुद का ब्लॉग बनाकर एफिलिएट मार्केटिंग भी शुरू कर सकते हैं।

अपने ब्लॉग niche के हिसाब से आप Affiliate Program से जुड़ कर उनका प्रमोशन कर सकते हैं.

2. आप समीक्षा लिखकर किसी उत्पाद का प्रचार कर सकते हैं।

3. आप अपने ब्लॉग दर्शकों को किसी उत्पाद की सिफारिश करके उसका प्रचार कर सकते हैं।

youtube

 affiliate in hindi

Affiliate Marketing करने का यह दूसरा सबसे अच्छा तरीका है क्योंकि आज लोग google के बाद Youtube देखना पसंद करते हैं। जहां पर आपको काफी ज्यादा ट्रैफिक मिलता है वहां आप अपने प्रोडक्ट का प्रमोशन कर सकते हैं।

1 आप डिस्क्रिप्शन बॉक्स में उन चीजों का एफिलिएट लिंक दे सकते हैं जिनका इस्तेमाल आप वीडियो बनाते समय करते हैं।

2. किसी उत्पाद को बेचने के लिए आप उसका वीडियो बना सकते हैं।

3. Youtuber के लिए उत्पाद की सिफारिश कर सकते हैं।

Facebook page and Facebook group

Facebook

इस तरीके का इस्तेमाल वे लोग कर सकते हैं जो फेसबुक पर ज्यादा समय बिताते हैं। साथ ही जिन लोगों के पास यूट्यूब चैनल और ब्लॉग नहीं है वे भी अपना खुद का फेसबुक पेज बना सकते हैं और फेसबुक ग्रुप और बैच एफिलिएट प्रोडक्ट को प्रमोट कर सकते हैं।

WhatsApp

WhatsApp

स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने वाले लोगों के फोन में व्हाट्सएप जरूर होता है। तो आप चाहें तो Whatsapp का इस्तेमाल करके Affiliate Marketing भी कर सकते हैं।

1 संबद्ध कार्यक्रम में शामिल हों।

2. ऐसे लोगों का समूह बनाएं जो ऑनलाइन सामान खरीदना पसंद करते हैं।

3. ऑनलाइन आने वाली सबसे अच्छी डील का पता लगाएं और इसके एफिलिएट लिंक को व्हाट्सएप ग्रुप में शेयर करें।

twitter

twitter

आप twitter का उपयोग करके भी Affiliate Marketing शुरू कर सकते हैं। यहां भी आपको काफी ट्रैफिक मिलता है। अगर आपके twitter पर अच्छा followers है तो आप वहाँ पर अपने product के Affiliate link को Promote कर सकते हैं।-एफिलिएट लिंक और गूगल ऐडसेंस को एक साथ इस्तेमाल किया जा सकता है। Affiliate Marketing से कमाए गए पैसे को Bank Account में Transfer किया जा सकता है।Affiliate Program से कोई भी जुड़ सकता है। यह बिल्कुल मुफ्त है। एफिलिएट मार्केटिंग करने के लिए यह जरूरी नहीं है कि आपके पास एक वेबसाइट हो। आप उत्पाद को बेचने के लिए जो भी तरीका अपनाना चाहते हैं उसका उपयोग कर सकते हैं।

आज के इस लेख में आपको Affiliate Marketing in Hindi के बारे में सम्पूर्ण जानकारी आप तक पहुचाने का प्रयास किया है आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो हमे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते है और ऐसे ही हम आपको सभी प्रकार की जानकारी आप तक पहुचाहते रहेंगे

Admin

Hello, My name is vishnu. I am a second-year college student who likes blogging. Please have a look at my latest blog on hindiscpe

View all posts by Admin →

Leave a Reply

Your email address will not be published.