Barish Shayri 2 Line

40+Best and unique Barish Shayri Lines in Hindi

आज की चर्चा का विषय Barish Shayri 2 Line है आपको बारिश की शायरी हिंदी में पसंद हैं तो बारिश की शायरी के इस संग्रह को व्हाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर पर साझा करना न भूलें। बरिश पर इन शायरी को आप अपने जीवन साथी या प्रेमिका को लिख कर भेज सकते है

Barish Shayri 2 Line

मेरे बचपन की बारिश भी,
अब बड़ी हो गयी ।
……………………………………………………………………………

कभी छुप जाती है कभी खो जाती है,
ये बारिश भी कुछ ऐसी ही है

……………………………………………………………………………

बारिश के वो बचपन के लम्हे,
हम कभी नहीं भूलेंगें।

……………………………………………………………………………

Barish Shayri 2 Line

इंद्र धनुष के साथ मज़े करना है ,
तो बारिश का सामना करना पड़ेगा।

……………………………………………………………………………

ज़माने का सब कुछ अगर मेरी मर्जी के मुताबिक होता,
तो आप बस में होते और रात भर बारिश होती।

……………………………………………………………………………

सडकों पर सफर करने में मजा आता है,
जब बारिश का मौसम सुहाना हो।

……………………………………………………………………………

हम अब तक आपसे बात करने के लिए तरस रहे हैं,
हमने बेमौसम बारिश की  है।

……………………………………………………………………………

दूर-दूर तक बादल छाए हुए थे और कहीं कोई छाया नहीं थी,
बारिश का मौसम ऐसा कभी नहीं आया था।

……………………………………………………………………………

आज आसमान भी खामोश नहीं था,
फिर भी में तो एक इंसान हूं।

……………………………………………………………………………

आज की बारिश तेज हो,
लोगों की जमीन पर धूल बहुत है।

बारिश शायरी

बारिश शायरी

बारिश की वजह से प्यासा मत होना,
जमीन से टकराया, पाव का पानी निकला।

……………………………………………………………………………

हम वो हैं जो मोहब्बत की बरसात करते हैं,
कोई तो है जो भीगने को तैयार नहीं है।

……………………………………………………………………………

कभी छुप जाती है कभी खो जाती है,
ये बारिश भी कुछ ऐसी ही है।

……………………………………………………………………………

अगर आप एक बार बाहर जाकर बारिश देखें तो ठीक है,
कहीं तेरे आने की खुशी में, हर बूंद आईना नहीं बन गई।

……………………………………………………………………………

ओस की कुछ बूंदों से लोग खुश हो जाते हैं,
हमारी एक मुस्कान के लिए भी बरसात के
मौसम को लाना।

……………………………………………………………………………

इस तरफ से भावनाओं के बादल भेजने हैं,
उस तरफ प्यार की बारिश के लिए।

……………………………………………………………………………

कुछ को ये बूँदें भी चाहिए,
नहीं तो कौन इस धरती को उस
आसमान से तोड़कर छू लेता है।

……………………………………………………………………………

आज सारे इत्रों की महक फीकी पड़ गई है,
बारिश की कुछ बूँदें मिट्टी में गिरीं।

……………………………………………………………………………

जरा रुकिए, बारिश रुक जाए तो चले जाना,
आपको कोई छुए मुझे पसंद नहीं ।

……………………………………………………………………………

जानिए क्यों जब भी बारिश होती है,
भीतर तुम्हारी स्मृति चुपचाप रोती है।

Barish Shayari

Barish Bhayari

कहीं फिसल न जाऊँ तेरे ख्यालों में चलते हुए,
अपनी यादों को संजोए रखना
मेरे शहर में बारिश हो रही है।

……………………………………………………………………………

कभी गर्मी की तपिश, कभी बारिश की बरसात,
यह सितंबर और प्यार हमारी समझ से परे है।

……………………………………………………………………………

आज बारिश आई, याद आया वो जमाना,
वह तुम्हारी छत पर रहता है और मेरी सड़कों पर नहाता है।

……………………………………………………………………………

सावन के सर्द मौसम की रंग बिरंगी फुहारों की बारिश,
तुम बहुत दूर हो, मेरा परदेशी तुम्हें पाने के लिए तरस रहा हु ।

……………………………………………………………………………

ऊपर वाले की क्या किस्मत है
कि उसे अपनी जमीन से मिलने के लिए
खुद बारिश करनी पड़ती है ।

……………………………………………………………………………

कभी बारिश रुकती है तो कभी रोक जाती है,
ये बारिश भी कुछ ऐसी ही है।

……………………………………………………………………………

कोई उसे गुलाब कैसे दे सकता है?
जिसके आने से मौसम अपने आप गुलाबी हो जाता है।

……………………………………………………………………………

जरूरी नहीं कि प्यार सिर्फ पास में ही हो,
हमने दूरियों में भी प्यार की बुलंदियों को देखा है।

……………………………………………………………………………

खुद को इतना न बचा ,
बारिश हो तो भीग जाओ।

Barish Status

दया की वर्षा हो रही है या पाप किसी की जान धो रहा है,
बादल बरस रहे हैं या भगवान रो रहे हैं।

……………………………………………………………………………

Barish Status

आखिर ऐसा मौसम नम क्यों हो जाता है,
लगता है बादलों का भी दिल टूट गया है।

……………………………………………………………………………

पूछा करते थे कि कितना प्यार करते हो हम से,
बारिश की इन बूंदों को अभी लें जिन्कलो।

……………………………………………………………………………

मजबूरी में आज और कल घर से निकलता हूँ,
नहीं तो बारिश में भीगने का शौक अभी बाकी है।

……………………………………………………………………………

पूछें कि कोई उसके बारे में दुखी है या खुश है,
जानिए बारिश की एक बूंद पत्तों पर क्यों रुक गई है।

……………………………………………………………………………

मौसम बारिश का है, मुझे तुम्हारी याद आ रही है
आपकी आवाज बारिश की हर हरकत से आती है।

……………………………………………………………………………

अब एक साथ बारिश में संभव नहीं है,
चलो हर यादों में भीग जाते हैं, कहीं तुम कहीं हो।

……………………………………………………………………………

मुझे अब बारिश का ये मौसम अच्छा नहीं लगता,
आंसू काफी हैं मुझे भीगने के लिए।

……………………………………………………………………………

मासूम सी मोहब्बत का बस इतना ही भ्रम है,
कागज की हवेली बारिश का जमाना।

……………………………………………………………………………

तेरे ख्यालों में डूबने से आती है ठंडक,
बारिश में भीगकर इतनी ठंडक कहाँ से लाऊँ ?

……………………………………………………………………………

बरसात की रातों में कुछ सुहानी याद थी,
किसी को अपना ज़माना याद आया तो
किसी को यौवन याद आया।

……………………………………………………………………………

प्यासी आँखों की बरसात, बरसी आँखों की तरस,
सावन की बारिश में कितनी नदियाँ टूट गईं?

……………………………………………………………………………

सुहावना मौसम देखकर निकले थे,
सावन की बारिश की आहट देख…
बस्ती में नदी बह रही है,
मिट्टी भी दिल के साथ चली गई, दिल देखकर…
बूंदों की आवाज कानों में गूँजती है,
कुदरत की मस्ती देखकर हैरान हूं।

……………………………………………………………………………

Barish Status (1)

यह धन लो, यह यश भी लो,
भले ही मेरी जवानी मुझसे छीन ले…
पर वो बचपन का सावन मुझे लौटा दो,
वो कागज़ की नाव, वो बारिश का पानी।

……………………………………………………………………………

आज इतना धुंआ है कि जल नहीं सकता,
आज इतना दर्द हो रहा है कि रो नहीं सकता…
इस बारिश में एक बूंद भी नहीं मिली है,
मुझे इतनी प्यास लगी है कि मैं पानी को छू भी नहीं सकता।

आज के इस लेख में आपको Barish Shayri 2 Line के बारे में सम्पूर्ण जानकारी आप तक पहुचाने का प्रयास किया है आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो हमे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते है और ऐसे ही हम आपको सभी प्रकार की जानकारी आप तक पहुचाहते रहेंगे

Admin

Hello, My name is vishnu. I am a second-year college student who likes blogging. Please have a look at my latest blog on hindiscpe

View all posts by Admin →

Leave a Reply

Your email address will not be published.