budget kya hai

बजट की परिभाषा प्रकार और विशेषताए – budget kya hai

आज हम आपको बजट के बारे budget kya hai में संपूर्ण जानकारी देने की कोशिश करेंगे बजट की परिभाषा या बजट क्या होता है और बजट आपके पैसे खर्च करने की योजना बनाने की क्या प्रक्रिया रहे इस खर्च की योजना को बजट भी कहा जाता है बजट केवल आपकी आय के साथ ही आपके खर्चों को भी संतुलित करता है ऐसा ही बजट देश को चलाने के लिए सरकार पेश करती है तो अब हम आपको इस बजट की संपूर्ण जानकारी देंगे कि बजट कैसे तैयार हुआ कब हुआ और इसका उपयोग कैसे करते हैं या इसकी क्या प्रक्रिया है

बजट का अर्थ व परिभाषा (budget kya hai)

बजट यह शब्द फ्रेंच भाषा के बुजट शब्द से निकाला गया है इसका अर्थ चमड़े का थैला या झूला भी होता है 1773 में ब्रिटिश वित्त मंत्री सर रॉबर्ट वाल अपने वित्तीय प्रस्तावों से संबंधित कागज संसद के सामने पेश किए और उसे पेश करने के लिए एक चमड़े के थैले में से निकाला तो उनका मजाक उड़ाया और बजट खोला गया तो बजट नामक एक पुस्तक प्रकाशित की गई उसी समय से बजट शब्द का प्रयोग सरकार की वार्षिक आय व्यय के वितरण के लिए किया जाने लगाई था

कुछ लेखकों ने बजट की परिभाषा अनुमानित आमदनी हो तथा खर्चा के वितरण मात्र के रूप में उपयोग की और कुछ अन्य लेखकों ने इसकी परिभाषा राजस्व तथा विनियोग अधिनियम के पर्यायवाची परिभाषा शब्द मानकर किया प्रथम अवधारणा अमेरिकन विद्वानों में सामान्यतः पाई गई जबकि दूसरी अवधारणा यूरोपियन विद्वानों में विशेष थे फ्रेंच लेखकों में पाई गई उदाहरण के लेनोय व्युलियो ने बजट की परिभाषा बहुत प्रकार की है बजट एक निश्चित अवधि के अंतर्गत होने वाला अनुमानित प्राप्ति आय व्यय खर्चा का एक विवरण है रीन एस्ट्रोम के शब्दों में बजट एक लेख पत्र है जिसके अंदर सरकारी आय व्यय की एक प्रारंभिक अनुमोदित योजना बनाई रहती है जी गीज अनुसार बजट संपूर्ण सरकारी प्राप्ति योग तथा खर्चों का एक पहले अनुमान तथा पूर्व अनुमान और कुछ प्राप्त हो का संग्रह करने तथा कुछ खर्चा को करने का एक आदेश दिया है

उपरोक्त सभी परिभाषा की आलोचना करते हुए दिलों बी ने कहा कि यह लेखक बजट की आधुनिक अवधारणा से बहुत दूर थे और उन्हें वित्तीय संगठन में बजट की महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और उसकी जानकारी नहीं है इन परिभाषा में कम से कम 2 से 2 कमियां हैं वह लाइन में स्पष्ट नहीं किया गया कि बजट भी विगत सक्रिय है वर्तमान दशा में साथ साथ ही भविष्य के प्रस्तावों से संबंधित तथ्यों का उल्लेख नहीं है दूसरा इस बजट के अंदर राजस्व तथा विनियोग अधिनियम के कोई अंतर नहीं माना गया है इन दोनों के बीच भेदभाव की आवश्यकता नहीं है क्योंकि यह अलग-अलग क्रिया का प्रतिनिधित्व करते हैं और बजट प्रशासन के कार्य का प्रतिनिधित्व करते हैं जबकि राजस्व तथा विनियोग अधिनियम व्यवस्थापिका कार्य का प्रतिनिधित्व करता है

बजट की विशेषताएं (budget in hindi)

बजट से संबंधित अनेक प्रकार के परिभाषा में उसकी बहुत सारी विशेषताएं है

  1. बजट सरकारी नीति वह रिद्धि को प्रतिबंधित करने का एक प्रशासनिक प्रयास है
  2. विगत वर्ष में कार्यपालिका द्वारा संपादित प्रशासनिक तथा आर्थिक कार्यों का एक संतुलित गिरा है
  3. सरकारी क्रियाकलापों के संचालन में आवश्यक धनराशि जुटाने वेस्को खर्च करने की एक व्यवस्थापिका है
  4. व्यवस्थापिका के समक्ष स्वीकृत के लिए पेश किए जाने वाले कारण बजट नियमित रूप से कार्यपालिका को व्यवस्थापिका के प्रति और उत्तरदायित्व का बोध कराते हुए एक प्रभावी माध्यम व्यवस्थापिका को स्वीकृति मिलने के पश्चात पुष्टि का प्रमाण माना जाता है

इस प्रकार वर्तमान काल में बजट का एक ऐसा महत्वपूर्ण दस्तावेज है जो कि बजट budget kya hai के समस्त वित्तीय प्रशासन यंत्र का प्राण तथा लोकप्रिय शासन व्यवस्था का अस्तित्व माना गया

यह भी पढ़े :- प्रदूषण पर हिंदी निबंध – Essay On Pollution In Hindi

बजट का महत्व (budget meaning in hindi)

बजट नवीनतम राज्यों में राष्ट्र की आर्थिक नीति को संचालित में नियंत्रण करने के लिए साधनों के प्रमुख स्थान में है यदि कहा जाए कि वर्तमान राज्यों का संचालन बजट के माध्यम से हो सकता है तो इसमें कोई गलती नहीं होगी सरकार बजट की सहायता से अपना कार्य करती होगी तथा सार्वजनिक आय के विभिन्न स्रोतों का अधिकतम उपयोग करने की योजना बनाती है जो सरकार इस कार्य की जितनी अधिक क्षमता से करेगी वह अपने नागरिकों की आर्थिक व भौतिक समृद्धि को उतना ही तेजी से ऊपर करेगी ब्रिटिश प्रधानमंत्री ग्लैडस्टोन ने एक बार कहा कि बजट केवल गणित के आंकड़ों मात्र नहीं है यह हजारों व्यक्तियों की समृद्धि और विभिन्न राज्यों के संबंधों तथा विभिन्न राज्यों की शक्ति का मूल रूप है द्वितीय विश्व युद्ध में पूर्व बजट राज्य सरकारों के प्रशासन के लिए धन प्राप्त करने के लिए मैं साधन मात्र है किंतु वर्तमान में बजट किसी राष्ट्र के आय-व्यय को संतुलित करने का ही कार्य नहीं है बल्कि यह अर्थव्यवस्था के विकास का एक साधन रूप भी है नए आर्थिक चिंतन और नूतन परीक्षणों का शुभारंभ करते हैं इनमें सरकार की नीति में देश की आर्थिक परिस्थितियां भी हैं सार्वजनिक वित्तीय प्रशासन का ह्रदय बजट जिनके जिनमें अनेक लक्ष्य होते हैं और उनके लिए धन निर्धारित किया जाएगा जैसे कि पीटर ने कहा कि बजट सरकार के लक्ष्यों का अधिकारिक रूप है या लेखा-जोखा है जिसमें उसकी प्राथमिकता का वर्णन होगा और उसके खर्चा का आवंटन भी होगा दूसरे शब्दों में सरकारी बजट समाज के संसाधनों का औपचारिक वितरण का रूप है जिसमें यह होता है कि किसे क्या कब और कैसे मिलेगा

बजट कई कारणों से प्रशासकों विधायकों के नागरिकों के लिए बहुत उपयोगी है प्रशासन के कारण वाले अधिकारी बजट की सहायता से ही विभागों तक अपनी नीति पहुंचा सकते हैं वह बजट विधायिका को देश की अर्थव्यवस्था का पूर्ण नियंत्रण करती है वह उस पर अंकुश रहने के साधन प्रदान भी करती है बजट नागरिकों की और कादर अदाओं के लिए बहुत उपयोगी है क्योंकि इसमें नागरिकों के पता चलता है कि सरकार कितने काम कितने रुपए में कर रही है और कितना खर्चा है कि सूरत में कितनी आमदनी लग रही है किस जगह कितने प्रकार के कार्य है और उसमें कितना बे लग रहा है इस सब का पता नागरिक को आसानी से पता लग जाता है और इसमें उसकी राजनीति शक्ति की वृद्धि हुई

बजट का वर्गीकरण (Classification of Budget)

4 आधारों के अनुसार वर्गीकृत बजट;

  1. समय के आधार पर
  2. शर्त के आधार पर
  3. कार्यों के आधार पर
  4. लचीलेपन के आधार पर

समय के आधार पर बजट के प्रकार

लंबी अवधि का बजट = यह बजट 5 से 10 वर्षों की अवधि के लिए किसी संगठन के नियोजन कार्यों से संबंधित है। अप्रत्याशित कारकों के कारण दीर्घकालिक बजट पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। अतः नियंत्रण की दृष्टि से दीर्घकालीन बजट को अल्पकालीन बजटों द्वारा पूरक किया जाना चाहिए।

उदाहरण: अनुसंधान और विकास बजट, पूंजीगत व्यय बजट, आदि।

अल्पकालिक बजट = यह बजट आमतौर पर एक साल के लिए निकाला जाता है। कभी-कभी कम अवधि के लिए बजट तैयार किया जा सकता है (जैसे मासिक बजट, त्रैमासिक बजट, आदि)। लघु अवधि के बजट विस्तार से तैयार किए जाते हैं और ये बजट दिन-प्रतिदिन के कार्यों पर नियंत्रण रखने में मदद करते हैं।
उदाहरण: सामग्री खपत बजट, श्रम उपयोग बजट, नकद बजट, आदि।

शर्त के आधार पर बजट के प्रकार

मूल बजट = एक बजट जो एक लंबी अवधि में उपयोग के लिए स्थापित किया जाता है, उसे मूल बजट कहा जाता है।

यह बजट बाहरी वातावरण से होने वाले परिवर्तनों को ध्यान में नहीं रखता है जो प्रबंधन के नियंत्रण से बाहर हैं। यह बजट नीतियां बनाने के लिए शीर्ष स्तर के प्रबंधन के लिए अधिक उपयोगी है।

वर्तमान बजट = एक बजट जो छोटी अवधि में उपयोग के लिए स्थापित किया जाता है और वर्तमान परिस्थितियों से संबंधित होता है उसे वर्तमान बजट budget kya hai कहा जाता है। इस बजट को व्यवसाय में मौजूदा परिस्थितियों के अनुरूप समायोजित किया जाता है।

यह भी पढ़े :- शिक्षा पर 50 सर्वश्रेष्ठ नारे -slogan in hindi on education

कार्यों के आधार पर बजट के प्रकार

मास्टर बजट = बजट अधिकारी द्वारा सभी कार्यात्मक बजटों budget kya hai  का अंतिम एकीकरण मास्टर बजट प्रदान करता है। जब कार्यात्मक बजट पूरा हो जाता है, तो बजट अधिकारी मास्टर बजट तैयार करता है।मास्टर बजट अपने घटक कार्यात्मक बजटों को शामिल करने वाला सारांश बजट है, जिसे अंततः स्वीकृत, अपनाया और नियोजित किया जाता है। [सी। आई. एम. ए. (लंदन) एल.

मास्टर बजट बजट अवधि के लिए व्यवसाय के परिचालन लाभ और बजट की बैलेंस शीट को इसके करीब दिखाता है। यह बजट बजट अवधि के लिए समग्र योजना को चित्रित करता है।मास्टर बजट में कई अलग-अलग लेकिन अन्योन्याश्रित बजट होते हैं। बजट प्रक्रिया में पहला कदम बिक्री बजट तैयार करना है, जो बजट अवधि के लिए अपेक्षित बिक्री को दर्शाने वाला एक विस्तृत कार्यक्रम है। एक सटीक बिक्री बजट संपूर्ण बजट प्रक्रिया की कुंजी है।

यदि बिक्री बजट गलत है, तो शेष बजट गलत होगा। बिक्री बजट कंपनी के बिक्री पूर्वानुमान पर आधारित होता है, जिसके लिए परिष्कृत गणितीय मॉडल और सांख्यिकीय उपकरणों के उपयोग की आवश्यकता हो सकती है।हम बिक्री के पूर्वानुमान कैसे किए जाते हैं, इसके विवरण में नहीं जाएंगे। यह एक ऐसा विषय है जो विपणन पाठ्यक्रमों में सबसे उपयुक्त रूप से शामिल है।
बिक्री बजट यह निर्धारित करने में मदद करता है कि कितनी इकाइयों का उत्पादन करने की आवश्यकता है।इस प्रकार, बिक्री बजट के बाद उत्पादन बजट तैयार किया जाता है। उत्पादन बजट, बदले में, प्रत्यक्ष सामग्री बजट, प्रत्यक्ष श्रम बजट और विनिर्माण ओवरहेड बजट सहित विनिर्माण लागत के लिए बजट निर्धारित करने के लिए उपयोग किया जाता है।

इन बजटों को तब नकद बजट निर्धारित करने के लिए बिक्री बजट और बिक्री और प्रशासनिक व्यय बजट के डेटा के साथ जोड़ा जाता है।एक नकद बजट एक विस्तृत योजना है जिसमें दिखाया गया है कि नकद संसाधनों का अधिग्रहण और उपयोग कैसे किया जाएगा। नकद बजट तैयार होने के बाद, बजट आय विवरण और फिर बजटीय बैलेंस शीट तैयार की जा सकती है।

कार्यात्मक बजट = कार्यात्मक बजट व्यवसाय के कार्यों जैसे उत्पाद की बिक्री आदि से संबंधित होते हैं। दूसरे शब्दों में, व्यवसाय में किए गए विभिन्न कार्यों के संबंध में कार्यात्मक बजट तैयार किए जाते हैं।

कार्यात्मक बजट जो आमतौर पर एक व्यावसायिक चिंता में पाए जाते हैं, वे इस प्रकार हैं;

1. बिक्री बजट;
2. उत्पादन बजट;
3. सामग्री बजट;
4. श्रम बजट;
5. उत्पादन ओवरहेड बजट;
6. प्रशासन उपरि बजट;
7. बिक्री और वितरण ओवरहेड बजट;
8. संयंत्र उपयोग बजट;
9. नकद बजट
10. अनुसंधान एवं विकास बजट और बहुत कुछ।

लचीलेपन पर आधारित बजट के प्रकार

निश्चित बजट (या स्थिर बजट) = फिक्स्ड बजट एक ऐसा बजट होता है जिसे प्राप्त गतिविधि के स्तर के बावजूद अपरिवर्तित रहने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इस प्रकार का बजट निश्चित खर्चों के लिए सबसे उपयुक्त होता है, जिसका उत्पादन की मात्रा से कोई संबंध नहीं होता है। स्थिर-बजट लागत नियंत्रण के साधन के रूप में अप्रभावी है। निश्चित बजट इस धारणा पर आधारित है कि उत्पादन और बिक्री की मात्रा का अनुमान काफी हद तक सटीकता के साथ लगाया जा सकता है।

लचीला बजट (या स्लाइडिंग स्केल बजट) = फ्लेक्सिबल बजट एक ऐसा बजट है जिसे प्राप्त गतिविधि के स्तर से बदलने के लिए डिज़ाइन किया गया है।यह बजट budget kya hai उत्पादन में उतार-चढ़ाव के बारे में निश्चित और परिवर्तनीय लागतों के बीच व्यवहार में अंतर को पहचानता है। यह बजट लागतों को नियंत्रित करने के लिए एक उपयोगी उपकरण के रूप में कार्य करता है। यह निश्चित बजट की तुलना में अधिक यथार्थवादी, व्यावहारिक और उपयोगी है।

एक लचीला बजट जिसका उपयोग यह अनुमान लगाने के लिए किया जा सकता है कि किसी निर्दिष्ट सीमा के भीतर किसी भी स्तर की गतिविधि के लिए कितनी लागत होनी चाहिए। एक लचीला बजट दिखाता है कि गतिविधि के विभिन्न स्तरों के लिए क्या लागत होनी चाहिए।एक विशिष्ट स्तर की गतिविधि के लिए लचीली बजट राशि अलग-अलग निर्धारित की जाती है, जो इस बात पर निर्भर करती है कि लागत परिवर्तनशील है या निश्चित है।

यदि कोई लागत परिवर्तनशील है, तो लचीले बजट के लिए निर्दिष्ट गतिविधि के स्तर से गतिविधि की प्रति यूनिट लागत को गुणा करके लचीली बजट राशि की गणना की जाती है। यदि कोई लागत तय की जाती है, तो मूल कुल बजटीय निश्चित लागत का उपयोग लचीली बजट राशि के रूप में किया जाता है।

यह भी पढ़े :- देश प्रेम पर निबंध – Desh Prem Essay in Hindi

लचीले बजट की विशेषताएं = लचीले बजट budget kya hai इस बात को ध्यान में रखते हैं कि गतिविधि में परिवर्तन लागतों को कैसे प्रभावित करते हैं। एक लचीला बजट यह अनुमान लगाना आसान बनाता है कि एक निर्दिष्ट सीमा के भीतर किसी भी स्तर की गतिविधि के लिए कितनी लागत होनी चाहिए।जब प्रदर्शन मूल्यांकन में एक लचीले बजट का उपयोग किया जाता है, तो वास्तविक लागतों की तुलना उस अवधि के दौरान वास्तविक स्तर की गतिविधि के लिए की जानी चाहिए, न कि मूल बजट से बजटीय लागतों से की जाती है।
यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंतर है- विशेष रूप से परिवर्तनीय लागतों के लिए। यदि गतिविधि के स्तर के लिए समायोजन नहीं किया जाता है, तो बजट और वास्तविक लागतों के बीच विसंगतियों की व्याख्या करना बहुत मुश्किल है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *