Essay on Student Life in Hindi

विद्यार्थी जीवन पर बेहतरीन निबंध – Essay on Student Life in Hindi

Essay on Student Life in Hindi विद्यार्थी का जीवन बहुत ही मुस्किलो भरा होता है अगर सभी विद्यार्थी माने तो विधयर्थी जीवन उनके जीवन का सबसे महत्व पूर्ण समय होता है सभी को इस समय का सही उपयोग कर के आपने जोवन को सही रास्ते पे ले जाना चाहीये| ये काल साधना और तपस्या  समय है इस काल में आवश्कता होती है की आप एकग्रित होकर अध्यन में ध्यान दे| यह संसारी जीवन से खुद को दूर रखने का दौर है|

विद्यार्थी जीवन मनुष्य के जीवन का सबसे सुखद समय होता है। यह एक ऐसा जीवन है, जो कठिन दुनिया की सभी चिंताओं से मुक्त है। छात्र का मन नेक विचारों से भरा होता है और उसकी आंखें सपनों से भरी होती हैं।

उनकी पढ़ाई ही जीवन के आने वाले संघर्ष की तैयारी है। यदि सही तरीके से उपयोग किया जाए, तो छात्र जीवन भविष्य की नींव, उसकी सफलता और उपलब्धियों की नींव रखता है। यदि दुरुपयोग किया गया, तो हार निश्चित है, हालांकि अर्जित भविष्य के प्रयासों से हो सकता है।इसलिए आज हमने vidyarthi jeevan par nibandh लिखा है चलिए चलते है।

👉 क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी > मेरे विद्यालय पर निबंध 

विद्यार्थी जीवन पर निबंध – Essay on Student Life in Hindi

विद्यार्थी जीवन पर निबंध 100 शब्द 150, 1000, शब्द 

विद्यार्थी के जीवन का महत्व बहुत ज्यादा उपयोगी होता है विधार्थी  जीवन काल सभी के जीवन में बहुत ही मनोरंजक भी होता है| जब वह विद्यालय जाता है तो वहां पर उसको नए शिक्षक नए सहपाठी ओर एक स्वच्छ वातावरण में जाके जो वो सीखता है| वो उसका जीवन में बहुत ज़्यादा साथ देती है वहाँ पर वह एकाग्रचित होकर विद्या अध्ययन करता है।छात्र जीवन बहुत ही चंचल होता है। वे विचार नकारात्मक और सकारात्मक दोनों ही प्रकार के होते हैं। विद्यार्थी को ये समझना जरुरी होता है की ये  सबसे अहम हिस्सा है

भारत में पिछला छात्र जीवन

भारत अनादि काल से विज्ञान, साहित्य, संस्कृति और दर्शन के क्षेत्र में विश्व में अग्रणी रहा है। भारत की वैदिक सभ्यता को शिक्षा के क्षेत्र में हमेशा याद किया जाता है। प्रकृति का अध्ययन करने के लिए जंगलों में गुरुकुल आश्रम बनाया गया था। उस समय गुरुकुल आश्रम में प्रवेश के लिए कड़ी परीक्षा व्यवस्था थी।

किताबी ज्ञान के स्थान पर आत्मज्ञान के विकास पर विशेष बल दिया गया। चरित्र निर्माण, संयम और आध्यात्मिकता शिक्षा के मुख्य उद्देश्य थे। छात्रों ने लगातार वास्तविक ज्ञान के लिए प्रयास किया। सत्य, ईमानदारी, नम्रता, संयम, सेवा और त्याग वैदिक विद्यार्थी जीवन के आभूषण थे। छात्र जीवन की खोज और समीक्षा कर रहे थे। द्वापरयुग में भगवान कृष्ण की भक्ति और छात्र जीवन की भव्यता आज भी छात्र समुदाय को महान मार्गदर्शन और ज्ञान प्रदान करती है।

भारत में विदेशियों के प्रवेश और शासन ने प्राचीन भारतीय शिक्षा प्रणाली की जड़ें खराब कर दीं। शिक्षण की प्रकृति और प्रसार सिकुड़ गया। पश्चिमी शिक्षा के शास्त्रीय रूप ने छात्रों को आकर्षित किया। शिक्षा प्रणाली धीरे-धीरे बदली।

आधुनिक विद्यार्थी जीवन

वर्तमान के विद्यार्थी आधुनिक विद्यार्थी जीवन की और अग्रसर हो रहे है  का स्तर दिन प्रतिदिन गिरता जा रहा है आज के विधयर्थी उच्च शिक्षा तो प्राप्त करना चाहते है लेकिन लेकिन विधयालयो के नियमो और अनुशासन की पलना नहीं करना चाहते है|

जबकि उन्हें ये जानना जरुरी है की ये भी उनके जीवन का हिस्सा है जो उनके जीवन की लड़ाई में आगे बढ़ने में मदद कर सकती है|

इसी प्रकार की सोच रखने के कारण विद्यार्थियों का पढाइके पार्टी लगाव काम होता जा रहा है और उनका मन भरी जीवन में भटकने लगा है|

अगर एक विद्यांर्थी नक़ल कर के पास होने की इच्छा रखता है तो इससे साफ़ साबित होता है की आज के विधार्थियो की सोच किस चीज को महत्व दे रही है| ऐसा कर के वो अपने पैर पर ही कुल्हाड़ी मरने जैसा काम कर रहे है |

यह भी पढ़े: संदीप महेश्वरी के विचार

विद्यार्थी जीवन के विभिन्न आदर्श

इन सभी कमियों के बाद भी आज भी छात्र के जीवन में कुछ महँ पहलु भी है आज के छात्र देश और विदेश से परिचित है|

उच्च शिक्षा और अनुसन्धान के लिए आज के विध्यार्ती विदेश यात्रा कर रहे है वो एक नए पाठ्यक्रम से परिचित है और उसका उपयोग करने में सक्षम है समुदाय के ज्ञान का विस्तार आज के जीवन में कीया गया है|

एक छात्र विधालय जीवन से जुड़ा है उसके लिए ये भिओ जरुरी है की वो विधयलय के नियमो की पलना करे और उसको अपने जीवम में उतारे|

विद्यार्थी जीवन में खेलों व अभ्यास का महत्व :

विद्यार्थी जीवन में पढाई के साथ साथ खेलो का भी उतना ही महत्व है| वो विद्यार्थी जो पढाई के साथ साथ खेल कूद में भी आगे होते है वे अधिकतर तेज़ बुद्धि वाले होते है|

खेल प्रत्येक मनुष्य के जीवन  महत्वपूर्ण हिस्सा है खेल मानव शरीर के लिए उतना ही जरुरी है जितना मानव शरीर जरुरी है खासतोर पर मनुष्य के जीवन में खेल कूद मानसिक थकन को काम करने के लिए भी जरुरी है|

खेल कूद से जीवन की थकान ऊर्जा में बदल जाती है विद्यार्थी को निरंतर अभ्यास के साथ ही विद्या गार्डन होती है इसी प्रकार ऐसी और भी कई बातें हैं जो विद्यार्थी के जीवन को बेहतरीन और सफल बनाती है

आज के समय में  माता-पिता को यह जरूरी है कि वह अपने कि वह अपने बच्चों के लिए उनकी रूचि के अनुसार खेलकूद का भी अभ्यास उतनी ही प्रभाव से उतनी ही प्रभाव से कराए जितना की जितना कि वह पढ़ाई में प्रभाव लगाते हैं कहने का मतलब यह है खेलकूद भी एक विद्यार्थी के जीवन का अहम हिस्सा है इसे उसे नकार नहीं सकते हैं

👉 क्या आपने यह पोस्ट पढ़ी > स्वामी विवेकानंद के रोचक बाते

विद्यार्थी जीवन का लक्ष्य-

सभी विद्यार्थियों के जीवन का एक लक्ष्य जरूर होना चाहिए बिना लक्ष्य के विद्यार्थी जीवन का कोई महत्व नहीं है एक विद्यार्थी जब अपने जीवन में लक्ष्य को धारण करके अपने सभी मोह माया को छोड़कर उस लक्ष्य का पीछा करता है तब जाके उसका विद्यार्थी जीवन सफल होता है

एक विद्यार्थी के जीवन में लक्ष्य इसी प्रकार महत्व रांची होता है जिस प्रकार यदि आप बाजार में जाते हो और बिना कुछ किए वापस आ जाते हो इस स्थिति में इंसान का बाजार जाना व्यर्थ होता है उसी प्रकार विद्यार्थी का कोई लक्ष्य ना होना भी व्यर्थ ही होता है

इसीलिए विद्यार्थी जीवन का ही नहीं अपने संपूर्ण जीवन में कुछ ना कुछ लक्ष्य होना बहुत आवश्यक है| कहीं विद्यार्थी ऐसे भी होते हैं जो अपना लक्ष्य तो निर्धारित कर लेते हैं परंतु उस लक्ष्य को संपूर्ण करने के लिए आने वाली बाधाओं से डर जाते हैं जैसे समाज के लोग क्या कहेंगे अगर वह अपना लक्ष्य प्राप्त ना कर पाए तो क्या होगा इस विचार के कारण पूरा नहीं कर पाते|

Essay on Student Life in Hindi में हमने समझा वास्तव में विद्यार्थी जीवन कठोर अनुशासन और शिष्टाचार का दूसरा नाम है जिस प्रकार सोना आग में तप कर ही अधिक मूल्यवान आभूषण बन सकता है उसी प्रकार विद्यार्थी भी कठोर अनुशासन शिष्टाचार की के बाद ही अधिक मूल्यवान बन सकता है विद्यार्थी जीवन व्यक्ति के जीवन का सबसे महत्वपूर्ण समय होता है। यद्यपि समय की चिंता करने की कोई सांसारिक परवाह नहीं है, फिर भी छात्र के लिए अवधि बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि उसे अपने चरित्र के निर्माण में और उसके बारे में दुनिया के साथ संपर्क बनाने में ज्ञान प्राप्त करने के लिए उठना और करना है। . इस अवधि में वह जिन छापों को इकट्ठा करेगा, वे उसके भविष्य के आचरण को निर्धारित करेंगे। छात्र जीवन में वह जो स्वाद विकसित करेगा, वह उसके भविष्य के करियर में अन्य लोगों के प्रति उसके व्यवहार को प्रभावित करेगा। इसलिए यह आवश्यक है कि अवधि का सही और उचित उपयोग अत्यंत सावधानी के साथ किया जाए।

Admin

Hello, My name is vishnu. I am a second-year college student who likes blogging. Please have a look at my latest blog on hindiscpe

View all posts by Admin →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *