Hindi Poems On Moon

चन्दा मामा के लिए शानदार कविता – Hindi Poems On Moon

आज की चर्चा का विषय Hindi Poems On Moon है यदि आप हिंदी में चंद्रमा पर सर्वश्रेष्ठ कविता ढूंढ रहे हैं तो आप एकदम सही जगह पर आये हैं। यहां मैं आपके साथ हिंदी में Moon Poem In Hindi पर एक अनूठी कविता आपके साथ शेयर कर रहा हूं जो वास्तव में अच्छी और दिलचस्प है, मुझे यकीन है कि आप इसे पसंद करेंगे।

Hindi Poems On Moon

(1)

Hindi Poems On Moon

shukhi टहनी, तन्हा चिड़िया, fika चाँद
aakho के सहरा में एक nami का चाँद

उस mathe को चूमे कितने din बीते
जिस mathe की खातिर था एक tika चाँद

पहले तू लगती thi कितनी बेगाना
kitna मुब्हम hota है पहली का चाँद

कम kese हो इन खुशियों से tera गम
लहरों में kb बहता है nadi का चाँद

आओ ab हम इसके भी टुकड़े kr ले
ढाका रावलपिंडी और delhi का चाँद

(2)

_चाँद पर छोटी सी कविता

यह chand नया है nav नई आशा की।
आज khadi हो छत pr तुमने
होगा chand निहारा,
फूट पड़ी hogi नयनों से
सहसा jal की धारा,
इसके साथ जुड़ीं jeven
kitni मधुमय घड़ियाँ,
यह चाँद नया है nav नई आशा की।
सात समुंदर bich पड़े हैं
हम दो dur किनारे,
किंतु गगन में चमक रहे हैं
दो thare अनियारे,
मैं inke ही संग-सहारे
स्वप्न तरी में बैठा
गाता आ jaunga तुम तक एकाकी।
यह चाँद नया है नाव नई aasha की।

Poem On Moon In Hindi

(3)

 चांदनी रात पर कविता इन हिंदी

चाँद-सितारों, Milkr गाओ!
आज Edher से Udher मिले हैं,
आज बाँह से बाँह Mili ,
Aaj हृदय से हृदय मिले हैं,
मन से मन की Chaah मिली;
chand – Sithare , मिलकर गाओ!

चाँद-सितारे, Milker बोले,
कितनी Bar गगन के Niche
प्रणय-मिलन व्यापार हुआ है,
Kitne बार धरा पर प्रेयसि-
प्रियतम का Abhishar हुआ है!
चाँद-सितारे, Milkar बोले।

चाँद-सितारों, Milkarरोओ!
आज Edher से Udher मिले हैं,
आज बाँह से बाँह Mili ,
Aaj हृदय से हृदय मिले हैं,
मन से मन की Chaah मिली;
chand – Sithare , मिलकर गाओ!

चाँद-सितारे, Milkar बोले,
कितनी Bar गगन के Niche
Atal प्रणय का Bandhan टूटे,
कितनी Bar धरा के Uper
प्रेयसि-प्रियतम के Prn टूटे?
चाँद-सितारे, Milkar बोले।

(4)

 चांदनी रात कविता इन हिंदी

Jese जेल में Lalten
Chand उसी तरह
एक पेड़ की Nangi डाल से झूलता Hua
और Hum
यानी पृथ्वी के Sare के सारे Kedi खुश
कि Chlo कुछ तो है

जिसमें हम Dekh सकते हैं
एक-दूसरे का Chare !

(5)

 चांदनी रात इन हिंदी

ईद का Chand हो गया है Koi
जाने Kis देस जा बसा है Koi

Puchta हूं मैं सारे Raste से
उस के Ghr का भी रास्ता है Koi

एक Din मैं ख़ुदा से Puchunga
क्या Gariv का भी Khuda है कोई

इक मुझे Chod के वो सब से Mila
इस से Bad के भी क्या सज़ा है Koi

Dil में थोड़ी सी Khot रखता है
यूं तो Sone  से भी खरा है Koi

वो मुझे छोड़ दे कि Mera रहे
Har क़दम पर ye सोचता है Koi

Hath तुम ने जहां Chudaya था
आज bhi उस जगह Khada है कोई

Fir भी पहुंचा न Us के दामन तक
Khak बन बन के गो Uda है कोई

Tum भी अब जा के सो Rho ‘रहबर`
ये न सोचो कि Jagta है कोई

Chand Par Kavita in Hindi

(6)

 चांदनी रात

यह चाँद Nya है नाव नई Asha की।
आज Khade हो छत Pr तुमने
Hoga चाँद निहारा,
फूट पड़ी Hogi नयनों से
सहसा जल की dhara,
Eske साथ जुड़ीं Jivan की
Kitna मधुमय घड़ियाँ,
यह चाँद Nya है नाव Nayi आशा की।
सात समुंदर Vichh पड़े हैं
Hum दो दूर किनारे,
किंतु गगन में Chamk रहे हैं
दो Tare अनियारे,
मैं Enke ही संग-सहारे
स्वप्न तरी में Betha
Gata आ जाऊँगा तुम tak एकाकी।
यह Chand नया है नाव Nyi आशा की।

(7)

moon kavita in hindi
Sukhi टहनी, तन्हा चिड़िया, Fika चाँद
आँखों के Shra में एक नमी का चाँदUs माथे को Chume कितने दिन बीते
JIs माथे की खातिर था एक Tika चाँदपहले तू Lgti थी कितनी Vegana
Kitna मुब्हम होता है पहली का Chand

Km कैसे हो इन Khushiya से तेरा गम
Lahra में कब बहता है Nandi का चाँद

Aao अब हम Eske भी टुकड़े Kar ले
Dhaka रावलपिंडी और Delhi का चाँद

(8)

 

short poem on moon in hindi

Ishq का कारोबार Karte थे
ग़म की Dolat शुमार करते थे

Kya तुम्हें याद है या Bhul गये
हम Kbhi तुमसे प्यार Krte थे

Kate भरते थे अपने Damen में
Ful उन पर निसार Krte थे

Banke मजनू जुदाई में Unki
पैरहन Tar तार करते The

Ab तो बस इतना Yad है के उन्हें
याद Hm बेशुमार करते The

Yad में तेरी रात Bhr तन्हा
“चाँद” तारे Sumarकरते थे.

(9)

short poem on moon

चारों ओर Samandr है मछली Hona बेहतर है

हैं महफूज़ Alfaj जहाँ सन्नाटा वो Ledki है

kuch तो बाहर है कश्ती कुछ Pani के अन्दर है

Nid का रस्ता है Chota जिसमें ख़्वाब की Thokar है

Mujse भँवर घबराते हैं मेरे Pav में चक्कर है

Akhe में चुभती है nind मेरी घात में Vister है

Main भी तो इक Rat ही हूँ चाँद मिरे Bhi अन्दर है

(10)

चाँद पर छोटी सी कविता

Jbभी दिख जाएँ Vo हैरत करना ऐसे Rango की हिफ़ाज़त Karna

Uska मुझसे यूँ ही लड़ Lena और घर की चीज़ों से Sikhayt करना

Kam ये कोई भी कर Dega पर इश्क़ ! तुम Meri वज़ाहत करना

इससे Phle के उसे देखो तुम Thik से सीख लो हैरत Krna

Mere ता’वीज़ में जो काग़ज़ Hai उसपे लिक्खा है ‘मुहब्बत Krna

Rokna उसको बना कर Bate कुछ न हो गर To शिकायत करना

आज के इस लेख में आपको Hindi Poems On Moon के बारे में सम्पूर्ण जानकारी आप तक पहुचाने का प्रयास किया है आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो हमे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते है और ऐसे ही हम आपको सभी प्रकार की जानकारी आप तक पहुचाहते रहेंगे

Admin

Hello, My name is vishnu. I am a second-year college student who likes blogging. Please have a look at my latest blog on hindiscpe

View all posts by Admin →

Leave a Reply

Your email address will not be published.