Mera Gaon Essay in Hindi

सबसे प्यारा मेरा गाँव – Mera Gaon Essay in Hindi

भारत एकमात्र ऐसा देश है जहा सबसे अधिक गाँव है | यदि हम गाँवो को भारत की आत्मा बोला जाए तो कोई अनावश्यक बात नहीं होगी क्योंकि भारत की जनसंख्या का लगभग 65% लोग गाँवो में ही निवास करना पसंद है|  गांव भारत के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं क्योंकि गांव में हर तरह की फसलों का उत्पादन होता है और गॉंव से ही शहरों में उनको भेजा जाता है | Mera Gaon Essay in Hindi पर हम छोटी-छोटी कक्षाओं से निबंध लिखते आ रहे है और आज भी हम अपने गाँव के ऊपर निबंध पर विचार करने बाले है | 

मेरे प्यारे गाँव पर 500 शब्दो में निबंध  Mera Gaon Essay in Hindi

भारत एकमात्र ऐसा देश है जहा सबसे अधिक गाँव है | यदि हम गाँवो को भारत की आत्मा बोला जाए तो कोई अनावश्यक बात नहीं होगी क्योंकि भारत की जनसंख्या का लगभग 65% लोग गाँवो में ही निवास करना पसंद है| गॉंव भारत के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं क्योंकि गांव में हर तरह की फसलों का उत्पादन होता है और गॉंव से ही शहरों में उनको भेजा जाता है | 

आजकल लोग शहरों की चकाचोंध और भीड़ भाड़ वाले जीवन से परेशान होकर गाँव में आकर कुछ दिन बिताना चाहते है और अपने आपको को गाँव में पूरी तरह बिजी रखना चाहते है। गाँव की ताज़ी हवा और शान्ति सभी के मन को भाति है एवं शान्ति और सुख प्रदान करती है।

किसी ने जो भी कहा है सच कहाँ है कि यदि आपको गाँवो के वारे में जानना है तो आपको गॉंव में जाकर देखना होगा क्योंकि आज भी भारत के अधिकतर  गाँवो में पुरानी संस्कृति ही जिंदा है और वहाँ आज भी पुराने विचारों/परम्पराओ को अपनाया जाता है| वहा पर हर त्यौहार को एक साथ अभी लोग इकठा होकर या मिलझुलकर मनाया जाता है |

हम कहीं ना कहीं गांव पर ही निर्भर रहते हैं यदि भारत में गॉंव नहीं होते तो हमे खाने-पीने के भी लाले पड़ सकते है|  गांव के लोग बहुत ही खुशमिजाज और मिलझुलकर रहने वाले होते है |

यह भी पढ़े:-ग्रीष्म काल पर निबंध

गॉंव में रहने वाले लोगों को शुद्ध हवा एवं शुद्ध जल मिलता है| गांव में चारों तरफ हरियाली होती है और अत्यधिक मात्रा में पेड़ पौधे लगे हुए रहते हैं जिसके कारण हमें अच्छी ऑक्सीजन प्राप्त होती है जो हमारे शरीर के स्वास्थ के  लिए काफी लाभदायक होती है। शहर के लोग अत्यधिक बीमार पड़ते हैं  की उनको शुद्ध वायु नहीं मिल पाती है | 

मेरा गॉंव राजस्थान राज्य के करौली जिले से करीब 35 किलोमीटर दूरी है | हमारे इस गाँव में सभी जाति और धर्म के लोग एक साथ मिलझुलकर कर रहते है, हमारे गांव में  150 परिवार स्थित है लेकिन अधिकतर लोग अपने खेतों में ही निवास रहते है| 

हमारे गाँव में आज भी पुराने रीती रिवाजों को ही मानकर विवाह हो या फिर कोई भी त्यौहार हो तब सभी लोग वहां पर मिलकर कार्य करवाने के लिए एकजुट हो जाते है और फिर धूम-धाम से मनाया या किया जाता है |

गाँव के लोग शहर के लोगो की तरह जल्दी ही बीमार नहीं होते है। क्योकि उन्हें कठोर काम और परिश्रम करने की आदत होती है। गाँव के लोग अपना काम खुद करते है। ये दुसरो पर निर्भर नहीं रहते है | मेरे गाँव के लोग ताज़े फल, सब्ज़ियां और शुद्ध दूध पीते है। गाँव में प्रदूषण नहीं होता है, इसलिए प्रदूषण मुक्त जीवन में लोग बीमार नहीं पड़ते है।

हमारे गाँव में बच्चो की पढ़ाई को लेकर भी पहले से काफी विकास हुआ है यहां पर सरकार द्वारा सीनियर सेकेंडरी तक सरकारी स्कूल भी बनवाया गया है इस स्कूल में हमारे गाँव के और आसपास के गाँव के बच्चे भी  पढ़ने के लिए आते है| गाँव में सभी मुख्य रास्तों पर सरकार द्वारा सड़क बनवा दी गई है जिसके कारण हमे शहर जाने में कोई भी असुविधा महशूस नहीं होती है | हमारे गांव में एक छोटी सी डिस्पेंशरी भी खोली गई है| 

गाँव में पंचायत भी स्थित है जिसमें गांव के आपस के झगड़े पंचायत में ही सुलझा दिए  जाते है | लेकिन अधिकतर हमारे में कोई लड़ाई देखने को नहीं मिलती है | गाँव में छोटे बच्चों को पढ़ाने के लिए सरकार द्वारा सर्व शिक्षा अभियान के तहत आंगनवाड़ी भी बनवाई गई है | हमारे गाँव के मुख्यत सभी लोग कृषि पर ही निर्भर है और यही उनकी आजीविका का एक मात्र  साधन है |

गाँव में हमेशा शांति का माहौल बना रहता है जो शहर के माहौल से बिलकुल ही अलग होता है | जब हम गाँव में जाते है तो हमारे मन को बहुत अच्छा महशूश होता है।लोग जितना शहर में रहना पसंद करते है उतना ही गाँव में अपनी गर्मी की छुट्टिया बिताने पसंद करते है | गांव में ज्यादा पेड़-पौधे होने की वजह से गर्मियों में भी हमें ठंडी हवा और छांव मिलती है जिससे हमें गर्मी का पता ही नहीं लगता है कि गर्मी भी है | 

आज हमने जो Mera Gaon Essay in Hindi पर लिखा है, उसको पढ़कर आपको अपने गांव की याद आ गयी होगी | आप भी अपना कुछ समय गाँव में निकाले तब आपको अपने गाँव और शहर में फर्क नज़र आएगा की गाँव की जिंदगी अच्छी होती है बजाए शहर की के | यदि इसमें में कोई भी बात रह गयी हो जो हमारे द्वारा नहीं बताई गयी तो आप निचे कमैंट्स करके बता दीजिये हम आपको उसके लिए आपका नाम देंगे |

 

Admin

Hello, My name is vishnu. I am a second-year college student who likes blogging. Please have a look at my latest blog on hindiscpe

View all posts by Admin →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *