mishra vakya

Mishra Vakya – मिश्र वाक्य परिभाषा ,भेद , उदाहरण

Mishra Vakya दोस्तों आज हमने मिश्र वाक्य लिखे है। यहाँ हमने मिश्र वाक्य की परिभाषा और उदाहरण सहित समझाया है। जिससे आपको समझने में आसानी होगी।जिससे हम आपको बताएंगे की मिश्र वाक्य कैसे बनते है। इस आर्टिकल से पहले हमने  संज्ञा और सर्वनाम भी लिखे है।

मिश्र वाक्य की परिभाषा Mishra Vakya

जिस वाक्य में एक मुख्य उपवाक्य हो और उस पर अन्य उपवाक्य आश्रित हो उसे मिश्र वाक्य कहते है। मिश्र वाक्य उपवाक्य की जैसा, तैसा,जो, वह, जब, तक, क्योकि, आदि, व्यधिकरण से जुड़े रहते है।

Mishra Vakya Ke Udaharan

जैसे ही शाम हुई बिजली चली गयी।

मुख्य उपवाक्य योजक आश्रित उपवाक्य
बिजली चली गयी जेसे शाम हुई

जब नयी कक्षा में दाखिला होगा तो हम पड़ेंगे

मुख्य उपवाक्य योजक आश्रित उपवाक्य
हम पढ़ेंगे तो
जब नयी कक्षा में दाखिला होगा

उस लड़के को बुलाओ जिसने काले जूते पहने है।

मुख्य उपवाक्य योजक आश्रित उपवाक्य
उस लड़के को बुलाओ
जिसने काले जूते पहने है

जब राम आया तो शाम चला गया।

मुख्य उपवाक्य योजक आश्रित उपवाक्य
शयाम चला गया जब तो राम आया

जब आंधी आयी तो धूल उड़ने लगी।

मुख्य उपवाक्य योजक आश्रित उपवाक्य
धूल उड़ने लगी जब तो आंधी

मिश्रित वाक्य के भेदमिश्रित वाक्य के भेदरचना के आधार पर मिश्र वाक्य

मिश्रित वाक्य में तीन प्रकार के  उपवाक्य होते है

संज्ञा उप वाक्य – जो उपवाक्य वाक्य में संज्ञा का काम करते है, वे संज्ञा उपवाक्य कहलाते है। संज्ञा उपवाक्य वही होगा जहा की शब्द का उपयोग होगा।

mishra vakya examples :

में चाहता हूँ की तुम डॉक्टर बनो।
राम को विश्वास है की शाम होली पर जरूर आएगा।
ऐसा लगता है की महंगाई काम नयी होगी।
गाँधी जी कहते थे की हिंसा नहीं करनी चाहिए।
राहुल ने कहा की वह जयपुर जाएगा।

विशेषण उपवाक्य – जो उपवाक्य मुख्य उपवाक्य संज्ञा सर्वनाम की विशेषता बताते है उन्हें विश्षण उपवाक्य कहते है।

उदाहरण :

जिसने काम नहीं किया वह खड़ा हो जाए।
जो आदमी पड़ता है वह अध्यापक होता है।
उन अंकल को बुलाओ जिनके हाट में बेग है।
वह साइकिल कहा है जिससे आप कल गए थे।
आप जिसे ढूंढ रहे है वो तो चला गया।

क्रिया विशेषण उपवाक्य – जिन उपवाक्यों  द्वारा मुख्य उपवाक्य में क्रिया की विशेषता बताई जाती है। उन्हें क्रिया विशेषण उप वाक्य कहा जाता है क्रिया विशेषण उपवाक्य किसी, काल, स्थान , रीती , परिणाम , आधी का घोतन  करते है।

इन उपवाक्यो में जहा जैसे ज्यो  त्यों अवयव प्रस्तुत होते है।

वाक्य रूपांतरण सरल वाक्य से मिश्र वाक्य

वाक्य परिवर्तन किसी भी वाक्य को दूसरे वाक्य में परिवर्तन करना वाक्य परिवर्तन कहलाता है।

सरल वाक्य – अच्छे लड़के मेहनती होते है।
मिश्र वाक्य – जो लड़के मेहनती होते है अच्छे होते है

सरल वाक्य –  छतरी वाले आदमी को बुलाओ।
मिश्र वाक्य –  उस आदमी को बुलाओ जिसके पास छतरी है।

सरल वाक्य –  वह कपडे खरीदने के लिए बाजार गया है।
मिश्र वाक्य – उसे कपडे खरीदने थे इसलिए बाजार गया।

सरल वाक्य – सर्दी आते ही उसके घुटनो का दर्द बढ़ गया।
मिश्र वाक्य – जैसे ही सर्दी बढ़ी वैसे ही उसके घुटनो का दर्द भी बढ़ गया।

सरल वाक्य – प्रधानचार्य को आते ही प्राथना सुरु हो गयी।
मिश्र वाक्य –  जैसे ही प्रधानाचार्य आये वही से प्राथना शुरू हो गयी।

वाक्य रूपांतरण मिश्रित वाक्य से सयुंक्त वाक्य

मिश्रित वाक्य – यदि आप घर आये तो आपसे बात हो।
सयुक्त वाक्य – आप घर आइये और बात कीजिये

मिश्रित वाक्य – जब विधालय में पढाई बंद हो गयी हम चले आये।
सयुक्त वाक्य –  विधालय में पढाई बंद हो गयी और हम लोट आये।

मिश्रित वाक्य – वह मेरे पिताजी है जो कुर्सी पर बेटे है।
सयुक्त वाक्य – मेरे पिताजी है जो कुर्सी पर बैठे है।

मिश्रित वाक्य – जो तोता पिंजरे में बंद है वह फल खता है।
सयुक्त वाक्य – तोता पिंजरे में बंद है और फल खा रहा है।

मिश्रित वाक्य – जैसे ही बारिश होती है , मोर नाचने लगे।
सयुक्त वाक्य – बारिश आयी  और मोर नाचने लगे।

वाक्य रूपांतरण मिश्रित वाक्य से सरल वाक्य

मिश्रित वाक्य – जब वर्षा होती है मोर नाचने लगते है।
सरल वाक्य – वर्षा होने पर मोर नाचने लगते है।

मिश्रित वाक्य – राम ने कहा वह निर्दोष है।
सरल वाक्य –  राम ने कुश को निर्दोष घोषित किया।

मिश्रित वाक्य – मुझे बताओ की आपका जन्म कब और कहा हुआ।
सरल वाक्य –  मुझे अपने जन्म का स्थान और समय बताओ

मिश्रित वाक्य – जिनकी आय काम है उन्हें मितव्ययी होना चाहिए।
सरल वाक्य –  काम आय वालो को मितव्ययी होना चाहिए।

मिश्र वाक्य के निम्न  उदाहरण –

वह कौन सा बालक है जिसने महाप्रतापी राजा  विक्रमादित्य का नाम नही सुना हो ?

प्रिय पाठकों आप ऊपर दिए गए उदाहरण में जैसा की आप देख सकते हैं। नतीजतन यहां एक उपवाक्य नहीं दो दो उपवाक्य हैं। इनमें से एक उपवाक्य प्रधान है और दूसरा उपवाक्य आश्रित है।

ऊपर दिए वाक्य में ‘वह कोनसा मनुष्य है’ यह उपवाक्य प्रधान है व ‘जिसने महाप्रतापी राजा विक्रमादित्य  का नाम ना सुना हो’ यह वाक्य आश्रित वाक्य है।

जैसा की आप देख सकते हैं इस वजह से वाक्य में दो विधेय हैं एवं दो विधेय मिश्र वाक्य में होते हैं। अतएव यह उदाहरण मिश्र वाक्य के अंतर्गत आएगा।

सुरेश  ने वह कार  खरीदा जो उसके दोस्त  की  था। 

जैसा की आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं की इसमें दो उद्देश्य हैं एवं दो उपवाक्य है।

इस वजह से  दो उपवाक्यों में ‘सुरेश  ने वह कार  खरीदी ’ यह प्रधान वाक्य है एवं ‘जो उसके दोस्त  की थी ’ यह वाक्य आश्रित वाक्य है।

 

जैसा की हम जानते हैं कि जब वाक्य में दो उद्देश्य होते हैं एवं दो उपवाक्य होते हैं तो वह मिश्र होता है। अतः यह उदाहरण मिश्र वाक्य के अंतर्गत आएगा।

जो मेहनत करेगा वो श्रेष्ट अंकों से उत्तीर्ण होगा। 

ऊपर दिए गये उदाहरण में जैसा की आप देख सकते हैं की इसमें दो उपवाक्य हैं। इसमें ‘जो मेहनत करेगा ‘ यह उपवाक्य प्रधान है एवं ‘वो श्रेष्ट अंकों से उत्तीर्ण होगा ’ यह आश्रित उपवाक्य है।

जैसा की हम जानते हैं कि जब दो उपवाक्य हो जाते है एवं एक या एक से अधिक समापिक क्रियाएं होती हैं, तो वह मिश्र वाक्य हो जाता है। अतः यह उदाहरण मिश्र वाक्य के अंतर्गत आएगा।

मिश्रित वाक्य के 10 उदाहरण –
  1. दोस्त की मौत की खबर सुनी , मन आहत हो गया।
  2. चोर ने कहा मैं पूरी तरह से निर्दोष हूँ।
  3. अध्यापक ने कहा सबको गृहकार्य खुद करना है।
  4. रीना ने जो स्कूटी ली वो पुरानी है।
  5. जो आदमी बाहर बैठे हैं , वह मेरे मामा हैं।
  6. यह वही जयपुर है ,जिसे पिंक सिटी के नाम से भी जाना जाता है।
  7. यह वही शर्मा जी हैं , जिनका बेटा अमेरिका में रहता है।
  8. जो लड़की बाहर बैठी है , वह मेरी छोटी बहन है।
  9. सुशांत ने जो घर ख़रीदा है , वह घर पुराना घर है।
  10. जैसे ही घंटी बजी ,वैसे ही बच्चे क्लास में चले गए।

 

आपको हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल Mishra Vakya पसंद आया हो तो फेसबुक और व्हाट्सअप पर शेयर अवश्य करे और कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेंट करके जरूर बताएं। धन्यवाद

Admin

Hello, My name is vishnu. I am a second-year college student who likes blogging. Please have a look at my latest blog on hindiscpe

View all posts by Admin →

Leave a Reply

Your email address will not be published.