Rahim Ke Dohe In Hindi

रहीम के प्रेरित करने वाले दोहे अर्थ सहित-Rahim Ke Dohe In Hindi

आज की चर्चा का विषय Rahim Ke Dohe In Hindi है। खानजा खान(Rahim Ke Dohe In Hindi) अब्दुल रहीम खान-खाना (१६ दिसंबर १६५६-१६) (हिंदी: खानजादा खान-ए-खान-ए, उर्दू: بدالن بدال بدال انانان), एक कवि थे जो रहीम (रहीम, انان) के दौरान रहते थे। मुगल बादशाह अकबर का शासन। वह अपने दरबार में नौ महत्वपूर्ण मंत्रियों (दीवान) में से एक थे, जिन्हें नवरत्नों के नाम से भी जाना जाता है। रहीम को उनके हिंदी दोहे और ज्योतिष पर उनकी पुस्तकों के लिए जाना जाता है। खानखाना गाँव, जिसका नाम उनके नाम पर रखा गया है, भारत के पंजाब राज्य के नवांशहर जिले में स्थित है। 

दोहे

 जो रहीम उत्तम प्रकृति, का करी सकत कुसंग,
चन्दन विष व्यापत नहीं, लिपटे रहत भुजंग.

अर्थ;-उत्कृष्ट प्रकृति का व्यक्ति बुरी संगति से भ्रष्ट नहीं हो सकता।
पेड़ के चारों ओर लिपटे नाग के जहर से चंदन अछूता रहता है।

—————————————————

दोहे;-बिगरी बात बने नहीं, लाख करो किन कोय.
रहिमन फाटे दूध को, मथे न माखन होय.

अर्थ;-लाख कोशिशें बिगड़ी हुई बात को नहीं सुधार सकतीं,
जितना ज्यादा मथना खराब दूध को मक्खन नहीं बना सकता।

—————————————————

rahim ke dohe class 9

रहिमन देखि बड़ेन को, लघु न दीजिए डारि.
जहां काम आवे सुई, कहा करे तरवारि.

अर्थ;- बड़े को देखकर छोटों का तिरस्कार न करें,
जहां सुई काम में आती है, वहां तलवार किस काम की?

————————————————

रहिमन धागा प्रेम का, मत तोरो चटकाय.
टूटे पे फिर ना जुरे, जुरे गाँठ परी जाय.

अर्थ;- प्यार के धागे को मत तोड़ो,
एक बार टूट जाने के बाद, इसे जोड़ा नहीं जा सकता है,
और यद्यपि यह जुड़ जाता है तो यह एक गाँठ छोड़ देता है।

रहीम के दोहे class 7

रूठे सुजन मनाइए, जो रूठे सौ बार.
रहिमन फिरि फिरि पोइए, टूटे मुक्ता हार.

अर्थ;- एक परेशान अच्छे दोस्त को खुश करने की कोशिश करें,
हालांकि सौ बार फिर से चाहिए,
क्‍योंकि हम टूटे हुए मोतियों को हार में बार-बार बुनते हैं।

—————————————————

जैसी परे सो सहि रहे, कहि रहीम यह देह.
धरती ही पर परत है, सीत घाम औ मेह.

अर्थ;- सहन करो जो इस शरीर पर पड़ता है
जैसे पृथ्वी भी ठंड, गर्मी और बारिश सहन करती है।

—————————————————

दोनों रहिमन एक से, जों लों बोलत नाहिं.
जान परत हैं काक पिक, रितु बसंत के माहिं.

अर्थ;- दो लोग तब तक एक जैसे लगते हैं जब तक वो बोलते नहीं हैं,
लेकिन, जब वसंत आता है, तो हम कोयल को कौवे से जानते हैं।

—————————————————

रहिमन अंसुवा नयन ढरि, जिय दुःख प्रगट करेइ,
जाहि निकारौ गेह ते, कस न भेद कहि देइ.

अर्थ;- आँखों से बहते आँसू दिल की उदासी बयां करते हैं,
इसी तरह, घर से निकाला गया कोई घर के राज क्यों नहीं खोलेगा?

रहीम के दोहे कक्षा 8

रहिमन निज मन की बिथा, मन ही राखो गोय,
सुनी इठलैहैं लोग सब, बांटी न लेंहैं कोय.

अर्थ;- अपने दिल के ग़म को अपने तक ही रखना बेहतर है,
दूसरों के लिए न तो इसकी गहराई को थाह सकते हैं
और न ही इसकी गंभीरता को।

—————————————————

रहिमन विपदा हू भली, जो थोरे दिन होय.
हित अनहित या जगत में, जान परत सब कोय.

अर्थ;- कुछ दिनों की विपत्ति बेहतर है,
क्योंकि इससे पता चलता है कि कौन मित्र है और कौन शत्रु।

—————————————————

समय पाय फल होत है, समय पाय झरी जात.
सदा रहे नहिं एक सी, का रहीम पछितात.

अर्थ;- फल का भी समय होता है,
मुरझाने का भी समय होता है।
समय हमेशा एक जैसा नहीं होता,
फिर शिकायत क्यों? (या पछतावा)।

—————————————————

बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय,
जो दिल खोजा आपना, मुझसा बुरा न कोय.

अर्थ;- मैं ढूंढ़ता फिरता रहा, और मुझे कोई बुरा नहीं मिला,
मैंने अपने दिल में खोजा और मेरे जैसा दुष्ट कोई नहीं था।

रहीम के दोहे class 5

बड़ा हुआ तो क्या हुआ, जैसे पेड़ खजूर,
पंथी को छाया नहीं, फल लागे अति दूर.

अर्थ;- बड़े होने का क्या फायदा, खजूर की तरह,
जो राहगीर को छाया नहीं देता और
उसका फल दुर्गम दूर होता है।

—————————————————

पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित भया न कोय,
ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय.

अर्थ;- बहुत सारी किताबें पढ़ने से कोई विद्वान नहीं बनता,
LOVE शब्द का अर्थ जानने से व्यक्ति विद्वान बनता है।
(“प्रेम” का अर्थ है “प्रेम” ढाई वर्णानुक्रम की ध्वनियाँ हैं।
कबीर का शाब्दिक अर्थ है कि
ढाई शब्द “प्रेम” को जानने से व्यक्ति सीखा जाता है)

—————————————————

निंदक नियरे राखिए, ऑंगन कुटी छवाय,
बिन पानी, साबुन बिना, निर्मल करे सुभाय.

अर्थ;- आलोचकों को अपने कुटीर यार्ड के पास रखें,
क्योंकि वे तुम्हें बिना पानी या साबुन के साफ कर देंगे।

—————————————————

धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय,
माली सींचे सौ घड़ा, ॠतु आए फल होय.

अर्थ;- धीरे-धीरे और धीरे-धीरे, हे दिल,
सब कुछ धीरे-धीरे होता है,
माली सौ घड़े में पानी भर सकता है,
लेकिन फल तो मौसम में ही आता है।

—————————————————

साधु ऐसा चाहिए, जैसा सूप सुभाय,
सार-सार को गहि रहै, थोथा देई उड़ाय.

अर्थ;- संत विनोइंग फैन की तरह होते हैं,
वे अनाज रखते हैं और भूसी को तैरने देते हैं।

रहीम के दोहे कक्षा 10

बोली एक अनमोल है, जो कोई बोलै जानि,
हिये तराजू तौलि के, तब मुख बाहर आनि.

अर्थ;- शब्द उनके लिए अनमोल हैं जो बोलना जानते हैं,
वे पहले शब्दों को मुंह से निकलने
देने से पहले उन्हें तराजू पर ठीक से तौलते हैं।

—————————————————

तिनका कबहुँ ना निन्दिये, जो पाँवन तर होय,
कबहुँ उड़ी आँखिन पड़े, तो पीर घनेरी होय.

अर्थ;- धूल के उस छोटे से कण का तिरस्कार मत करो
जिसे तुम अपने पैरों तले रौंदते हो,
अगर यह उड़कर आपकी आंख में गिर
जाए तो दर्द असहनीय हो जाता है।

—————————————————

दोस पराए देखि करि, चला हसन्त हसन्त,
अपने याद न आवई, जिनका आदि न अंत.

अर्थ;- हम दूसरों की गलतियों पर हंसते हैं,
लेकिन कभी भी अपने स्वयं के अनंत दोषों को याद न रखें।

—————————————————

जिन खोजा तिन पाइया, गहरे पानी पैठ,
मैं बपुरा बूडन डरा, रहा किनारे बैठ.

अर्थ;- कुछ ऐसे हैं जो खोजते हैं और खोजते हैं
एक गोताखोर की तरह जो गहरे से कुछ लाता है;
कुछ और भी हैं जो बहुत डरते हैं
और समुद्र तट पर बैठे रहते हैं।

—————————————————

अति का भला न बोलना, अति की भली न चूप,
अति का भला न बरसना, अति की भली न धूप।

अर्थ;- ज्यादा बोलना उतना ही बुरा है जितना कम बोलना,
जितनी बारिश उतनी ही खराब सूरज।

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल(Rahim Ke Dohe In Hindi )अच्छा लगा हो तो आप इससे ही समन्धित हमारा दूसरा आर्टिकल भी पढ़ सकते है-सूरदास जी के 5 दोहे अर्थ सहित-Surdas Ke Dohe

Admin

Hello, My name is vishnu. I am a second-year college student who likes blogging. Please have a look at my latest blog on hindiscpe

View all posts by Admin →

Leave a Reply

Your email address will not be published.