Raksha Bandhan Kavita in Hindi

Raksha Bandhan Kavita in Hindi -रक्षाबंधन की कविता हिंदी में

प्रिय पाठकों आज हम आपके लिए Raksha Bandhan Kavita in Hindi नामक लेख लेकर आये हैं।इस लेख के माध्यम से हम भाई -बहन के पवित्र बंधन के इस पावन  उपलक्छ पर आप सभी मेरे प्रिय पाठकों को बहुत -बहुत बधाई देते हैं। 

Raksha Bandhan Kavita in Hindi –रक्षाबंधन की कविता हिंदी मे –

प्रस्तावना  –

 Poem on Rakhi For Brother in Hindi – रक्षा बंधन पर कविताएं हिंदी में

रक्षाबंधन भाई -बहन के प्रेम का प्रतीक है। इस त्यौहार को  श्रावण महीने की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को यह पूरे भारत वर्ष में  बड़े धूम -धाम से मनाया जाता है। यह दिन भाई -बहन के लिए बड़ा ही महत्वपूर्ण दिन होता है।इस त्यौहार के दिन भाई बहन को तोहफे देते हैं। और इस दिन घरों में काफी पकवान भी बनाये जाते हैं।

इस दिन बहन भाई के दाएं हाथ में राखी बांधती है। तथा भाई के लम्बी उम्र की कामना करती है। और भाई बहन की रक्षा का वचन लेता है। Raksha Bandhan Kavita in Hindi के माध्यम से आज हम कुछ कवितायेँ आपके  समक्छ प्रस्तुत कर रहे हैं।

 

 Poem on Raksha Bandhan – रक्षा बंधन पर कविता

Poem on Raksha Bandhant

राखी का त्यौहार आया 

राखी का त्यौहार आया
भाई – बहन में प्यार लाया
राखी ,रोली ,मिठाई और दिया
बहन ने थाली में खूब  सजाया
बांध के भाई के कलाई में धागा
भाई से रक्षा का वादा माँगा
जीवन के हर मोड़ पर साथ निभाना
अपनी प्यारी सी बहन को भूल न जाना
खुश होकर देता भाई बहन को वचन
दुःख -दर्द कर लेगा उसके हरण
भाई – बहन का प्यारा त्यौहार
आओ हम सब मिलकर मनाएं यार

 

rakhi ka tyohar aaya

राखी का शुभ दिन है आया

राखी का शुभ दिन है आज
बहन ने पहनाया भाई को ताज
भाई – बहन की आँखों में है प्यार
भाई ने दिया बहन को उपहार
जीवन भर देगा बहन का साथ
साथ रहेंगे हर जन्म -जन्म
दोनों मिलकर खाएं खूब मिठाई
मेरे भाई रक्षा बंधन की खूब बधाई

कविताएं रक्षाबंधन की hindi me

– Brother – रक्षाबंधन पर  बहन -भाई के लिए कविता

सावन में आता राखी का त्यौहार

सावन में आता राखी का त्यौहार
बहन ने कहा भाई से आओ मिलकर मनाएं ये त्यौहार
चाँद सितारे बहना कलाई में बांधे
सच्चे धागे मन से बांधे
कलाई को जगमग कर जाती राखी
भाई -बहन के रिश्तों की अद्भुद साथी
मन को भावुक कर जाती राखी
ऐसे अटूट भाव हैं इस धागे में
हर घर में खुशबु बिखरा देते हैं
हर त्यौहार से बढ़कर भाती ये राखी
भाई से कहती ये हर बार
बहन का तुम देना साथ
ऐसा है राखी का त्यौहार

बंधन है ये प्रीत के धागे का 

बंधन है ये प्रीत के धागे का
प्यार और स्नेह का उमड़ रहा इसमें संसार
पूरे जग में सबसे सच्चा भाई – बहन का ये त्यौहार
कहना है ये प्यारे भाई का कहना
रक्षा की राखी बांधो मेरी बहना
सावन लायी मस्तानी फुहार
कोयल मधुर गीत सुनती है
मेघ की मधुर सुर और ताल पर
सावन का ये मास आया
राखी का त्यौहार लाया
धरती ने भी खूब मनाया
राखी का ये त्यौहार
इंद्र धनुष की राखी बंधी
चंदा मामा के हाथों में यार
आओ भैया आओ बहना मिलकर मनाएं राखी का यह त्यौहार

कविताएं रक्षाबंधन की -Poems of Rakshabandhan

रक्षाबंधन का त्यौहार है प्यारा 

रक्षाबंधन का त्यौहार है आज
बहन – भाई के लिए दिन है खास
खुशियों की लाता बहार ये
रेशम सा कोमल रिश्ता है ये
बहन अपने भाई को टीका  तिलक लगाती है
और अपने प्यारे भाई को स्वीट्स खूब खिलाती है
नन्हे भाई की नाजुक कलाई पर
प्यार की राखी बांधती है
बदले में भाई से सुऱक्षा का
अनमोल उपहार पाती है
भाई भी लाते बहनों के लिए तोहफे हज़ार
तोहफे में क्या वो पाएंगी सदा रहती उसके लिए बेकरार
बहनें भी भाई के लिए करतीं दुआएं हज़ार
ईश्वर रहे सदा सुखी उनके भाई का घर बार
बहन -भाई का रिश्ता प्यारा
दुनिया में होता सबसे निराला

बहन -भाई का प्यारा बंधन राखी का त्यौहार 

बहन -भाई का प्यारा बंधन राखी का त्यौहार है
सारे जग का सबसे प्यारा रिश्ता ये न्यारा है
लड़ते झगड़ते खूब रहते  हैं
पर एक दूजे के बिन न रह सकते हैं
यदि जरूरत पड़ती किसी  को
दोनों  सदा तैयार है
राखी का त्यौहार है आता
संग साथ में मिठास लाता
बहन भाई से ढेर तोहफे पाती
बदले में भाई ढेरों दुवाएं पाता
होली दिवाली कितने त्यौहार
बहन – भाई का प्यारा राखी त्यौहार
राखी जात -पात में भेद न माने
आओ सब मिलकर धूम -धाम से मनाएं राखी का त्यौहार

कविताएं रक्षाबंधन की

रक्षाबंधन की मधुर कविताएं -Rakshabandhan ki Madhur Kavitayen –

राखी आयी संग खुशियां लायी 

राखी आयी बहनों  ने चौक बनाया
सज धज कर भाई संग में राखी लाया
चौक पर अपने भाई को बिठया
भाई ने अपने हाथ में शौक से  राखी बंधवाया
माथे पर अक्छत और तिलक लगाया
उसके बाद जमकर खूब रसगुल्ला खिलाया
बहन के प्रेम स्नेह को देखकर भाई मंद -मंद मुस्काया
दिप जलाकर थाल सजाकर उतारी  भाई की आरती
भाई की ले लूं मैं सारि  बालाएं ऐसी है बस मनोकामनाएं
मेरा भाई जहाँ रहे घर – बार उसका सदा बना रहे
ईश्वर से सदा ही है ये मनोकामनाएं
रक्षाबंधन है बहन -भाई का त्यौहार
आओ धूम -धाम से मनाएं यार

त्यौहार है ये राखी का 

त्यौहार है ये राखी का भाई -बहन के प्यार के बंधन का
जीवन में उपहार ये लाता भाई -बहन को पास बुलाता
दूर हो कितना भी भाई इस दिन बहन  के साथ में होता
इस दिन बहन भाई के लिए राखी लती
भाई को जमकर खूब मिठाई खिलाती
बहन भाई से तोहफे लेती और साथ में ढेरों आशीर्वाद देती
बहन -भाई का ये रिश्ता निराला
दिल से निकलती बस एक दुआ
हर बहना को भाई देना
हैप्पी रक्षाबंधन मेरे सभी पाठकों को

कविताएं रक्षाबंधन

 

सावन आया संग राखी का त्यौहार लाया

सावन आया संग राखी का त्यौहार लाया
भाई -बहन में उत्साह ,उमंग और प्यार लाया
बहन हाथों में मेहँदी रचाएगी भाई  भी संग अपने  तोहफ़ा लाया
दुवाएं देगी अपने भाई को बहना
बाँध  के उसके कलाई में प्रेम का गहना
भाई को दुनिया में लगती सबसे प्यारी बहना
दिया -आरती से बालाएं हर बार लेती उसकी प्यारी बहना
भाई भी हर बार देता वचन की हर बार रक्षा तुम्हारी करूँगा मेरी प्यारी बहना
राखी का त्यौहार आया संग खुशियों की सौगात लाया !!

मेरे प्यारे भैया इस बार राखी में तुम जरूर आना 

मेरे प्यारे भैया इस बार राखी में तुम जरूर आना
रोली चंदन फूल दिया और बाती थाल सजाकर लाएगी ये बहना
एक राखी का त्यौहार ही साथ में लाता प्यार का गहना
घर में सब खुशियां मनाते बाजे बजाते और गाते गाना
लड्डू मिठाई और पकवान बनाते
सब मिलकर फिर खूब खाते
भाई -बहन फिर धूम मचाते
संग में फिर खूब पतंग उड़ाते
भाई -बहन का ये प्यारा त्यौहार
लाये खुशियों और उमंगों की बहार !!! 

अंतिम शब्द –

मेरे प्यारे पाठकों मैं आज आप सभी के लिए Raksha Bandhan Kavita in Hindi नामक लेख लेकर आयी हूँ। इस कविता के माध्यम से मैंने उन सभी प्यारी बहनों और मेरे प्यारे भाईयों की भावनाओं को व्यक्त किया है।

आशा करती हूँ की आप सभी को अवश्य पसंद आएगा ,तो कृपा करके अपनी प्यारी बहनों एवं प्यारे भाईयों को अवश्य शेयर करें तथा अपने स्नेह भरे कॉमेंट से हमें प्रोत्साहित करें।  धन्यवाद

शिल्पी पांडेय

मैं एक लेखक और कवी हूँ। मैं मूलतः कानपूर उत्तरप्रदेश की निवासी हूँ। मैं ने अपनी वेबसाइट www .hindiscope .com के माध्यम से अपनी स्वरचित रचनाएँ आपके समक्छ रखने का प्रयास किया है।

View all posts by शिल्पी पांडेय →

Leave a Reply

Your email address will not be published.