Sadak Suraksha Par Kavita

5+ सड़क सुरक्षा( यातायात ) स्वरचित कविताएँ – Sadak Suraksha Par Kavita

Sadak Suraksha Par Kavita दोस्तों आज हमने सड़क सुरक्षा पर कविता हिंदी में  है। क्योकि हमारे देश में बहुत दुर्घटनाए होती है, कभी कभी तो परिवार के पुरे सदस्य इसका शिकार हो जाता है। इसलिये हमने सड़क के नियम बताते हुए कविताओं का वर्णन किया है।

Sadak Suraksha Par Kavita

बच्चों सड़क पार जब भी करना
बस इतनी बात ध्यान में रखना  ,
पहले अपने दाई देखो
फिर तुम अपने बाये देखो
फिर से देखो दायें बाये
अगर जो मोटर गाड़ी आए
हॉर्न की  घंटी पड़े सुनाई
रुक जाना तब मेरे भाई।
जब यह सड़क साफ दिख जाए
मोटर गाडी नजर न आये
तभी सम्भल कर करना पार
कहलाओगे तुम होशियार।

Sadak Suraksha Par Hindi Kavita 

यातायात के नियमो का सबको होता ज्ञान
इनका जो भी पालन करता खतरे से बच जाती जान
जहां कहीं भी चौराहा हो जलती हुई हो बत्ती लाल
इसका मतलब रुक जाना है करो प्रतीक्षा जानो हाल
पीली जले करो तैयारी हरी जलने पर चल दो श्रीमान
इनका जो भी पालन करता खतरे से बच जाती जान
पैदल जाना सड़क किनारे बायीं और देखो फुटपाथ
वाहन यदि चलाना है तो चलना सदा नियम के साथ
दो पहिया में लगा हेलमेट, सीट बेल्ट कस बैठो कार
मोबाइल को नहीं चलाना खतरे का बनता आधार
सड़क किनारे संकेतों की करना सीखो तुम पहचान
इनका जो भी पालन करता खतरे से बच जाती जान।

sadak suraksha kavita

सड़क बनी है लंबी चौड़ी
इस पर जाए मोटर दौड़ी
सब बच्चे पटरी पर आओ
बीच सड़क पर कभी ना आओ
आओगे तो दब जाओगे
चोट लगेगी पछताओगे

सड़क सुरक्षा पर कविता

सड़क सुरक्षा रखे मान
इसका कुछ रखिए ज्ञान
तेज गति से ना चले
सीमा का रखिए ध्यान
जरूरी कागज रखिए
लाल न करिये पार
हरी से आगे न बढिये
कहत कवी कविराय
ये है जीवन बहुत जरुरी
चले सुरक्षित आप।

Kavita On Sadak Suraksha

सड़क सुरक्षा को मानिये
इसका रखिये ज्ञान
तेज गति से न चलिए
सीमा पर रखिये आपने ध्यान
जरूरी कागज रखिये पास
लाल न करिये कभी पार
हरी देख कर बढिये आगे
जीवन बहुत जरूरी है
चले सुरक्षित हमेसा आप

सड़क सुरक्षा पर कविता

कहाँ – कहाँ से आती है सड़के
और कहाँ को जाती है सड़के
दौड़ दौड़ के जाती सड़के
दौड़ दौड़ के आती है

पर शायद ये सही न हो
लेकिन सड़क वहीं पर रहती है
दौड़ा तो हम करते है
पर सड़क सबकुछ सहती है

बोलो बोलो ए सड़क तुम्हारी
छाती पर कितना है बोझ
तुम समझ न पाओगे भईया
बोझ है छाती पे कितना

इतना बोझ तो धोकर में भी
ह नहीं, पर करती हूँ,
मेरा तप बस यही-यही है-
सोच, सभी कुछ सहती हूँ।

मैं बोल-ओ सड़क, तुम्हारी
कठिन तपस्या भारी है,
तुमसे ही जीवन में गति है
जग इसका आभारी है!

तब से भाई, जान गया हूँ
बड़े काम की चीज सड़क है,
जो इस पर कूड़ा फैलाते
उनसे होती मुझे रड़क है!

यह भी पढ़े : 5+ पक्षियों पर बेहतरीन कविताये – Poem On Birds In Hindi

अगर आपको हमारे द्वारा लिखी गयी सड़क सुरक्षा पर कविता हिंदी में ( Sadak Suraksha Par Kavita )पंसद आयी होतो अपने दोस्तों और रिस्तेदारो के साथ शेयर करना न भूले और साथ ही कोई सवाल या सुझाव ह तो कमेंट करके जरूर बताये। धन्यवाद 

Admin

Hello, My name is vishnu. I am a second-year college student who likes blogging. Please have a look at my latest blog on hindiscpe

View all posts by Admin →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *